loading...

जो आपको चाहिए यहाँ खोज करे

loading...

रविवार, 25 दिसंबर 2016

जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

By
loading...
आज हम आपके लिए लाये आधुनिक दुनिया के सात अजूबे जो पिछले 100 साल से जाने जाते है इनमे कुछ अजूबे ऐसे है जो पुराने सात अजूबो में अपना स्थान रखते है .ये साथ अजूबे पूरी दुनिया में कराए गये एक सर्वे के आधार पर चयनित किये गये है ,जिनको पूरी दुनिया के लोगो ने आश्चर्यजनक माना ,तो जानिए इन के बारे में -
1. मसीह उद्धारक-Christ the Redeemer
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

ब्राज़ीलके रियो डी जेनेरो में स्थापित ईसा मसीह की एक प्रतिमा है जिसे दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा आर्ट डेको स्टैच्यू माना जाता है। यह प्रतिमा अपने 5 मीटर (31 फीट) आधार सहित 39.6 मीटर (130 फ़ुट) लंबी और 30 मीटर (98 फ़ुट) चौड़ी है। इसका वजन 635 टन (700 शॉर्ट टन) है और तिजुका फोरेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है 700 मीटर (2,300 फ़ुट) जहाँ से पूरा शहर दिखाई पड़ता है। यह दुनिया में अपनी तरह की सबसे ऊँची मूर्तियों में से एक है (बोलीविया के कोचाबम्बा में स्थित क्राइस्टो डी ला कोनकोर्डिया की प्रतिमा इससे थोड़ी अधिक ऊँची है)। ईसाई धर्म के एक प्रतीक के रूप में यह प्रतिमा रियो और ब्राजील की एक पहचान बन गयी है। यह मजबूत कांक्रीट और सोपस्टोन से बनी है, इसका निर्माण 1922 और 1931 के बीच किया गया था।

2.ताजमहल - Tajmahal
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

भारत केआगरा शहर में स्थित एक विश्व धरोहर मक़बरा है। इसका निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने, अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद में करवाया था। ताजमहल मुग़ल वास्तुकला का उत्कृष्ट नमूना है। इसकी वास्तु शैली फ़ारसी, तुर्क, भारतीय और इस्लामी वास्तुकला के घटकों का अनोखा सम्मिलन है। सन् 1983 में, ताजमहल युनेस्को विश्व धरोहर स्थल बना। इसके साथ ही इसे विश्व धरोहर के सर्वत्र प्रशंसा पाने वाली, अत्युत्तम मानवी कृतियों में से एक बताया गया। ताजमहल को भारत की इस्लामी कला का रत्न भी घोषित किया गया है।

3. चीन की महान दीवार The Great Wall of China
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

मिट्टी और पत्थर से बनी एक किलेनुमा दीवार है जिसे चीन के विभिन्न शासको के द्वारा उत्तरी हमलावरों से रक्षा के लिए पाँचवीं शताब्दीईसा पूर्व से लेकर सोलहवी शताब्दी तक बनवाया गया। इसकी विशालता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की इस मानव निर्मित ढांचे को अन्तरिक्ष से भी देखा जा सकता है। यह दीवार 6,400 किलोमीटर (10,000 ली, चीनी लंबाई मापन इकाई) के क्षेत्र में फैली है। इसका विस्तार पूर्व में शानहाइगुआन से पश्चिम में लोप नुर तक है और कुल लंबाई लगभग 6700 कि.मी. (4160 मील) है। हालांकि पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के हाल के सर्वेक्षण के अनुसार समग्र महान दीवार, अपनी सभी शाखाओं सहित 8,851.8 किमी (5,500.3 मील) तक फैली है। अपने उत्कर्ष पर मिंग वंश की सुरक्षा हेतु दस लाख से अधिक लोग नियुक्त थे। यह अनुमानित है, कि इस महान दीवार निर्माण परियोजना में लगभग 20 से 30 लाख लोगों ने अपना जीवन लगा दिया था।

4 .Machu Picchu मछु पिच्चु
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

 दक्षिण अमेरिकी देशपेरू मे स्थित एक कोलम्बस-पूर्व युग, इंका सभ्यता से संबंधित ऐतिहासिक स्थल है। यह समुद्र तल से 2430 मीटर की ऊँचाई पर उरुबाम्बा घाटी, जिसमे से उरुबाम्बा नदी बहती है, के ऊपर एक पहाड़ पर स्थित है। यह कुज़्को से 80 किलोमीटर (50 मील) उत्तर पश्चिम में स्थित है। इसे अक्सर "इंकाओं का खोया शहर" भी कहा जाता है। माचू पिच्चू इंका साम्राज्य के सबसे परिचित प्रतीकों में से एक है। 7 जुलाई 2007 को घोषित विश्व के सात नए आश्चर्यों मे माचू पिच्चू भी एक है।



5. पेट्रा-Petra
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

जार्डन के मआन प्रान्त में स्थित एक ऐतिहासिक नगरी है जो अपने पत्थर से तराशी गई इमारतों और पानी वाहन प्रणाली के लिए प्रसिद्ध है। इसे छठी शताब्दी ईसापूर्व में नबातियों ने अपनी राजधानी के तौर पर स्थापित किया था। माना जाता है कि इसका निर्माण कार्य 1200 ईसापूर्व के आसपास शुरू हुआ। आधुनिक युग में यह एक मशहूर पर्यटक स्थल है। पेत्रा एक "होर" नामक पहाड़ की ढलान पर बना हुई है और पहाड़ों से घिरी हुई एक द्रोणी में स्थित है। यह पहाड़ मृत सागर से अक़ाबा की खाड़ी तक चलने वाली "वादी अरबा" (وادي عربة) नामक घाटी की पूर्वी सीमा हैं। पेत्रा को युनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर होने का दर्जा मिला हुआ है। बीबीसी ने अपनी "मरने से पहले 40 देखने योग्य स्थान" में पेत्रा को भी शामिल किया हुआ है।

6. चीचेन इट्ज़ा-Chichén Itzá
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

चीचेन इट्ज़ा: कोलम्बस-पूर्व युग में माया सभ्यता द्वारा बनाया गया एक बड़ा शहर था। चीचेन इट्ज़ा, उत्तर शास्त्रीय से होते हुए अंतिम शास्त्रीय में और आरंभिक उत्तरशास्त्रीय काल के आरंभिक भाग में उत्तरी माया की तराई में एक प्रमुख केंद्र था। यह स्थल वास्तु शैलियों के विविध रूपों का प्रदर्शन करता है, जिसमें शामिल है "मेक्सीक्नाइज़ड" कही जाने वाली शैली और केंद्रीय मेक्सिको में देखी जाने वाली शैलियों की याद दिलाने वाले से लेकर उत्तरी तराई के पक माया के बीच पाई जाने वाली पक (पक) शैली। केंद्रीय मैक्सिकन शैलियों की उपस्थिति को एक समय प्रत्यक्ष प्रवास या केंद्रीय मेक्सिको के विजय का प्रतिनिधित्व करने के लिए जाना जाता था, लेकिन सबसे समकालीन व्याख्याएं इन गैर-माया शैलियों की उपस्थिति को सांस्कृतिक प्रसार के परिणामो के रूप में देखती हैं।

7. कालीज़ीयम-Colosseum
जानिए दुनिया के नये सात अजूबों के बारे में-Learn about the New Seven Wonders of the World

इटली देश के रोम नगर के मध्य निर्मित रोमन साम्राज्य का सबसे विशाल एलिप्टिकल एंफ़ीथियेटर है। यह रोमन स्थापत्य और अभियांत्रिकी का सर्वोत्कृष्ट नमूना माना जाता है। इसका निर्माण तत्कालीन शासक वेस्पियन ने 70 वीं - 72 वीं ईस्वी के मध्य प्रारंभ किया और 80 वीं ईस्वी में इसको सम्राट टाइटस ने पूरा किया। 81 और 96 वर्षों के बीच इसमें डोमीशियन के राज में इसमें कुछ और परिवर्तन करवाए गए। इस भवन का नाम एम्फ़ीथियेटरम् फ्लेवियम, वेस्पियन और टाइटस के पारिवारिक नाम फ्लेवियस के कारण है।
ये भी देखे -
loading...
loading...