loading...

जो आपको चाहिए यहाँ खोज करे

loading...

मंगलवार, 13 सितंबर 2016

सौ सालों से सो रही है ये बच्ची रोजालिया लोबरडो-Sleeping Beauty-Hundred years, this child is sleeping. Rojalia Lobrdo-

By
loading...
मौत के बाद क्या होता है इस प्रश्न का उत्तर कोई भी खोज नहीं पाया है। हमारी दुनिया में हमने कई अजीबो गरीब मामलों को सुना हैं। जिनकी सच्चाई आज तक रहस्य ही बनी हुई है। एक ऐसा ही  इटली में मामला भी सामने आया है कि मामले की जानकारी जिसे भी हुई वो इसे सुनकर हैरान हो गया। इटली में पिछले सौ वर्षों पूर्व मरने वाली लड़की अपनी पलकों को आज भी झपकाते हुए देखा गया है।
सौ सालों से सो रही है ये बच्ची रोजालिया लोबरडो-Sleeping Beauty-Hundred years, this child is sleeping. Rojalia Lobrdo-
यह ममी इस कब्रिस्तान में रखी गयी सबसे खूबसूरत ममी है क्योकि इस ममी को देखने पर ऐसा लगता ही नहीं हैं कि यह कोई ममी बल्कि ऐसा लगता है कि कोई प्यारी सी बच्ची सो रही हैं।  इसलिए इस ममी को Sleeping Beauty नाम दिया गया हैं।  यह आज तक भी रहस्य है कि इस ममी को संरक्षित करने में कोन से केमिकल काम में लिए गए थे जिससे कि यह ममी आज भी वैसी ही हैं।

झपकती है पलके 

जानकारी के अनुसार इटली में सीसिली की राजधानी पैलरमों में एक बड़ा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है। इसमें हम एक लड़की की बात कर रहें है जिसको मरे हुए करीब सौ साल होने वाले है लेकिन इस लड़की की पलके आज भी अपने आप झपक रहीं हैं। बताया गया है कि इस लड़की का नाम रोजालिया लोबरडो था।


जिसकी मृत्यु दो वर्ष की अवस्था में ही वर्ष 1920 में हो गई थी। खबरों की मानें तो इस बच्ची को आठ हजार लोगों के कब्र के साथ पैलरमों के कॉनवेंट में सुरक्षित रखा हैं। लोबरडों को उसकी कब्र में ही पलकें झपकाते हुए देखा गया है। आज के समय में यह खबर तेजी से वायरल हो रही है। इसे स्लीपिंग ब्यूटी के नाम दिया गया हैं। इसी मामले को जानने के बाद कई लोग इटली के सीसिली में पहुंच रहें है। वहीं इस बच्चीं के कब्र की देखभाल करने वाले डैरियो का कहना है कि यह सिर्फ प्रकाश द्वारा उत्पादित एक ऑटिक्ल भ्रम है।
. खैर, इस मामले से पर्दा तब हटा जब लोबरडो के शव को एक सील किए हुए ग्लास के ताबूत में शिफ्ट किया गया. ताबूत के निरीक्षक ने कहा कि शव की आंखें पूरी तरह से बंद नहीं हैं, जिसकी वजह से इस तरह की अटकलें तेज हो रही हैं.
रोजालिया का यह रहस्य 2009 में खुला था, जब रोजालिया के पिता के मित्र द्वारा शव के सफल संरक्षण के पीछे रासायनिक सूत्र की खोज की गई थी. बहरहाल, मौजूदा समय में बच्ची के शव को ग्लास के ताबूत में सुरक्षित हालात में संरक्षित रखा गया है.
loading...
loading...