loading...

जो आपको चाहिए यहाँ खोज करे

loading...

शुक्रवार, 12 अगस्त 2016

जानलेवा बीमारी डेंगू के कारण,लक्षण,और सफल इलाज-Dengue killer disease, symptoms, and treatment success

By
loading...
जानलेवा बीमारी डेंगू के कारण,लक्षण,और इलाज-janleva bimari dengu ke karan lakshn or ilaj
Dengue killer disease, symptoms, and treatment success
आजकल के इस बारिश के मोसम में डेंगू एक बहुत बड़ी समस्या बन गया ,इसके बारे में जानकारी होना 
बहुत जरूरी है ,इसलिए हम आपके लिए ये महत्पूर्ण ज्ञान डेंगू के बारे में लाये है -
डेंगू दुनिया भर में पाया जाने वाला एक खतरनाक वायरल रोग है जो की संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। अकेला एक संक्रमित मच्छर ही अनेक लोगों को डेंगू रोग से ग्रसित कर सकता है।
जानलेवा बीमारी डेंगू के कारण,लक्षण,और सफल इलाज-Dengue killer disease, symptoms, and treatment success

डेंगू के लक्षण (Symptoms of Dengue in Hindi) –


तेज बुखार,
मांस पेशियों एवं जोड़ों में भयंकर दर्द,
सर दर्द,
आखों के पीछे दर्द,
जी मिचलाना,
उल्टी
दस्त तथा
त्वचा पर लाल रंग के दाने
इत्यादि


मरीज की स्थिति गम्भीर होने पर प्लेट लेट्स (platelets) की संख्या तेजी से कम होते हुए नाक, कान, मुँह या अन्य अंगों से रक्त स्राव शुरू हो जाता है, रक्त चाप काफी कम हो जाता है। यदि समय पर उचित चिकित्सा ना मिले तो रोगी कोमा में चला जाता है।

उपरोक्त लक्षणों के सम्बन्ध में यह बात ध्यान रखने योग्य है कि बहुत से अन्य रोगों एवं अन्य बुखार आदि के लक्षण भी डेंगू से मिलते जुलते हो सकते हैं और कभी कभी रोगी में बुखार के साथ सिर्फ 1 – 2 लक्षण होने पर भी डेंगू पॉजिटिव आ सकता है। इसलिए सभी लक्षणों के प्रकट होने का इंतजार नहीं करना चाहिए। यदि बुखार 1 – 2 दिन में ठीक ना हो तो तुरन्त डॉक्टर के पास जाकर चेक-अप करवाना चाहिए क्योंकि कोई भी बुखार डेंगू हो सकता है।

डेंगू से बचाव एवं उपचार (Prevention & Treatment of Dengue in Hindi) –


घर में एवं घर के आसपास पानी एकत्र ना होने दें, साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखें।
यदि घर में बर्तनों आदि में पानी भर कर रखना है तो ढक कर रखें। यदि जरुरत ना हो तो बर्तन खाली कर के या उल्टा कर के रख दें।
कूलर, गमले आदि का पानी रोज बदलते रहें। यदि पानी की जरूरत ना हो तो कूलर आदि को खाली करके सुखायें।
ऐसे कपड़े पहनें जो शरीर के अधिकतम हिस्से को ढक सकें।
मच्छर रोधी क्रीम, स्प्रे, लिक्विड, इलेक्ट्रॉनिक बैट आदि का प्रयोग मच्छरों के बचाव हेतु करें।


डेंगू से बचने के आयुर्वेदिक एवं प्राकृतिक तरीके (Ayurvedic and Natural Treatment for Dengue in Hindi)


घर की खिड़की आदि में तुलसी का पौधा लगाने से मच्छरों से बचाव होता है।
नीम की सुखी पत्तियों एवं कर्पूर की घर में धूणी करने से मच्छर मर जाते हैं या कोने एवं पर्दों आदि के पीछे छिपे हुए मच्छर घर के बाहर भाग जाते हैं।
नीम, तुलसी,गिलोय ,पिप्पली , पपीते की पत्तियों का रस, गेंहू के ज्वारों का रस, आँवला व ग्वारपाठे का रस डेंगू से बचाव में बहुत उपयोगी है। इनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढती है तथा डेंगू के वायरस से मुकाबला करने की ताकत आती है।
25 ग्राम ताजी गिलोय का तना लेकर कूट लें , 4 – 5 तुलसी के पत्ते एवं 2 – 3 काली मिर्च पीसकर 1 लीटर पानी में उबालें। 250 M.L. शेष रखें , इसे तीन बार में बराबर मात्रा में विभक्त करके लें। यह काढ़ा डेंगू, स्वाइन फ्लू एवं चिकन गुनिया जैसे वायरल इन्फेक्शन से बचाने में बहुत उपयोगी है।
याद रखें डेंगू की कोई विशिष्ट चिकित्सा अभी तक उपलब्ध नहीं है। सिर्फ लाक्षणिक चिकित्सा ही की जाती है। बुखार कैसा भी हो इन दिनों में यदि जल्दी आराम ना मिले तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए और मच्छरों से बचाव एवं शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढायें। यही डेंगू से बचने का सर्वोत्तम उपाय है।
   ये भी देखे --मधुमेह का ताकतवर घरेलू उपचार,,
                ---मर्दों के प्रमुख यौन रोग , कारण , लक्षण एवं निवारण
loading...
loading...