loading...

जो आपको चाहिए यहाँ खोज करे

loading...

रविवार, 18 सितंबर 2016

बचपन की गलती.शीघ्रपतन.ढीलापन.का आसान इलाज - bachpan ki galti jaldipatan dhilapan ka aasan ilaj

By
loading...

बचपन की गलती..शीघ्रपतन  का इलाज नशों का ढीलापन.का आसान इलाज - bachpan ki galti shighrapatan dhilapan ka aasan ilaj-

Shighrapatan ke gharelu Upay में हिन्दी का देसी Ilaj ki दावा

शीघ्रपतन से निजात पाने के उपाय

पुरुष के अपने प्रयत्न के द्वारा भी इसका इलाज किया जा सकता है।ज्यादा हाथों के प्रयोग से पीछा छुडा़ने के लिए और इसका इलाज करने के लिए 2 तरीके हैं-

इसका इलाज दवाईयों के द्वारा भी किया जा सकता है।-शीघ पतन के उपाय

व्यक्ति के अपने प्रयत्न के द्वाराः–शीघ्रपतन -शीघ्र स्खलन का घरेलू इलाज-शीघ्र स्खलन का इलाज


 

व्यक्ति को अपने रोजाना की दिनचर्या इस तरह से बनानी होगी कि उसे किसी भी वक्त खाली बैठे रहने का समय ही न मिले। उसे हमेशा अपने आपको अपने मित्रों के तथा अपने परिवार के साथ हंसते-खेलते हुए और काम-काज में लगाए रखना चाहिए। हमेशा ज्ञान की किताबें तथा धार्मिक ग्रंथों को पढ़ते रहने से मन गंदे विषयों की तरफ नहीं भटकेगा और मन के अंदर भी शांति भी बनी रहेगी।
व्यक्ति को सुबह जल्दी उठकर ताजी हवा में घूमना चाहिए। अगर घर के अंदर घास उगा हुआ खुला बाग हो या घर के आस-पास कोई पार्क हो तो वहां पर जाकर सुबह के समय में नंगे पांव ही घूमने की कोशिश करें। इस तरह से करने से आपका शरीर स्वस्थ रहेगा और मन के अंदर भी शांति बनी रहेगी तथा शरीर में ताकत भी आ जाएगी।
व्यक्ति को कभी भी तेज मिर्च-मसालों वाला भोजन नहीं करना चाहिए, नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा तली हुई चीजें कम ही खायें या हो सके तो कम ही कर दें।
व्यक्ति को सदा सादा भोजन ग्रहण करना चाहिए, अगर हो सके तो हफ्तें के अंदर एक दिन का भोजन न करें। भोजन करने के साथ-साथ कुछ दिनों के लिए फल का इस्तेमाल करें और हो सके तो फलों के रस का सेवन करें।
व्यक्ति को बुरे मित्रों का साथ तुरंत ही छोड़ देना चाहिए। कभी भी अश्लील किताबें न पढ़े और गंदी तथा काम उत्तेजना को बढाना देने वाली फिल्मों को कदापि न देखें। अपने आप को अच्छे कार्य में लगाए रखें। इससे आपका मन नहीं भटकेगा।
मल त्याग करने के बाद, शौच आदि से निपटने के बाद अण्डकोष, लिंग तथा हाथ-पांव को अच्छी तरह से ठंडे पानी से धोकर साफ करना चाहिए।
पेट के अंदर कभी भी कब्ज न बनने दें, पेट को हमेशा साफ रखें। पेट के साफ न रहने से कई प्रकार की बीमारी हो जाती है। अगर पेट में किसी प्रकार की कोई शिकायत हो तो शीघ्र ही किसी अच्छे डाक्टर से मिलकर इस समस्या का समाधान करें।

घरेलू औषधियों  से  इलाजः-

कुछ घरेलू दवाईयों के द्वारा भी शीघ्रपतन जैसे रोग से छुटकारा पाया जा सकता हैः-

500 ग्राम प्याज के रस को 250 ग्राम शुद्ध शहद में मिला लें। इसके बाद इसे धीमी आग पर गर्म करने के लिए रख दें। इसे तब तक पकाते रहे जब तक प्याज का रस जल जाए और केवल शहद बच जाए। शुद्ध शहद के बच जाने पर इसके अंदर 250 ग्राम मूसली का चूर्ण मिलाकर इसको अच्छी तरह से घोंटकर एक साफ की हुई कांच की शीशी में भर लें। इसके बाद इस चूर्ण को सुबह और शाम के समय में हस्तमैथुन के रोगी को खिलाने से हस्तमैथुन जैसे सभी रोग समाप्त हो जाएगें और उसके अंदर एक नयी प्रकार की स्फूर्ति और शरीर के अंदर सेक्स करने की ताकत में बढोतरी होगी।
बेल और पान की जड़ का चूर्ण बनाकर उसमें शहद को मिला लें। फिर इसकी बेर की गुठली के बराबर की गोलियां बनाकर रख लें। इस गोली को 2-2 की मात्रा में गाय के दूध के साथ सुबह और शाम के समय में रोजाना सेवन करने से हस्तमैथुन की वजह से पैदा हुए शीघ्रपतन का रोग समाप्त हो जाता है और संभोग करने की ताकत बहुत अधिक बढ़ जाती है।
अगर इस गोली को सेक्स क्रिया शुरू करने से 1 से 2 घंटे पहले दूध के साथ सेवन लिया जाए तो इससे संभोग करने की ताकत दुगनी हो जाती है।
कनेर की जड़ का रस 20 ग्राम, गाय का शुद्ध घी 20 ग्राम और शराब 20 ग्राम को एकसाथ मिलाकर एक कांच की साफ शीशी में भरकर रख दें। इस मिश्रण को लिंग के मुंड को बचाकर बाकी के बचे हुए भाग पर लेप कर दें। इसके बाद ऊपर से पान का पत्ता लेकर लिंग पर लपेटने से हस्तमैथुन से होने वाले लिंग की सारी खराबियां दूर हो जाती हैं। इस लेप को करने से लिंग का टेढ़ापन, मोटाई तथा पतलापन, लिंग की नसों के ऊपर उभर आया नीला निशान तथा लिंग से शीघ्र वीर्य का निकल जाना जैसी सभी प्रकार के रोग समाप्त हो जाते हैं।
250 ग्राम गाय के ताजे शुद्ध घी के अंदर 18 ग्राम सफेद संखिया को मिलाकर एक हफ्तें तक रोजाना कूट-पीस लें। इसके बाद इस तेल को धूप के अंदर सुखाकर एक साफ कांच की शीशी में भरकर रख दें। रात को सोते समय रोजाना इस तेल की मालिश लिंग के आगे के भाग को छोड़कर करें। इसके बाद बंगला पान को साफ करके लिंग के ऊपर बांध दें। इस तरह से कुछ दिनों तक करने के बाद पुरुष के लिंग के सभी प्रकार के रोग समाप्त हो जाते हैं।

क्या स्त्रियां भी ऊँगली से करती  है ?

कई पुरुषों का यह सोचना है कि क्या स्त्रियां भी हस्तमैथुन करने में रुचि लेती है, तो इसका जवाब यह है कि आज के युग में स्त्रियां भी हस्तमैथुन करती है। यह बात बिल्कुल ठीक है। जब बालिका की उम्र 12 से 13 साल के आस-पास हो जाती है तो उनके शरीर के अंगों का तेजी से विकास होने लगता है उस समय वह अपनी योनि के अग्र भाग को मसलकर इस तरह के कार्य को करने लग जाती है। स्त्रियों के शरीर के अंदर उनको उत्तेजित करने वाला सबसे नाजुक भाग योनि का ही होता है। जिस तरह से लड़को को हस्तमैथुन करने से सुख की प्राप्ति होती है उसी प्रकार लड़कियों को भी अपनी योनि के अग्र भाग को रगड़ने से सेक्स क्रिया करने का आनंद प्राप्त होता है। अधिकतर वे स्त्रियां जो किसी वजह से पुरुष के साथ सेक्स क्रिया नहीं कर पाती है वे इस तरह का कार्य करके अपनी सेक्स वासना को संतुष्ट कर लेती है। अधिकतर यह देखा गया है कि कभी-कभी लड़किया कोई एकांत सी जगह देखकर मोमबत्ती, खीरा, गाजर व बैंगन जैसी अन्य चीजों को लेकर अपनी कामवासना को मिटा लेती है।

किन-किन अवस्था में ये ज्यादा किया जाता हैः-

जिन युवकों की शादी उम्र बीत जाने के बाद भी काफी समय के बाद भी नहीं होती है।
जिन पुरुषों को बाहर नौकरी करने के लिए एक लम्बे समय तक अपनी पत्नी से दूर रहना पड़ता है।
वे पुरुष जिनकी पत्नी मर जाती है और उनकी दूसरी शादी काफी लंबे समय तक नहीं हो पाती है।
वे पुरुष जिनकी पत्नियां गर्भवती होती है या उनकी पत्नियां काफी लम्बे समय से बीमारी से ग्रस्त होती है।
वृद्धावस्था के अंदर जब प्रोस्टेट ग्रन्थियां बढ़ जाती है तो आप्रेशन आदि के द्वारा भी इसका इलाज न हो पाने की वजह से भी हस्तमैथुन करना पड़ जाता है।

सावधानी-

इस तरह के कोई रोग हो तो उनको समाप्त करने के लिए सप्ताह के अंदर एक या दो बार सेक्स क्रिया जरुरी होता है। अगर सेक्स क्रिया करने का कोई साधन ना हो तो शरीर तथा मन के अंदर उठी हुई कामवासना को समाप्त करने के लिए सप्ताह में एक या दो बार हस्तमैथुन कर सकते हैं\
ये भी देखे---ताकत बड़ाने वाले कुछ फल .रामबाण इलाज
           ------मर्दों के प्रमुख यौन रोग , कारण , लक्षण एवं निवारण
             ----शीघ्रपतन रोकने के आसान उपाय
loading...
loading...