loading...

जो आपको चाहिए यहाँ खोज करे

loading...

बुधवार, 31 जनवरी 2018

ताजमहल के गहरे राज ,जिन्हें कोई नही जनता -Deep secrets of the Taj Mahal, which no public

By
loading...
ताजमहल के गहरे राज ,जिन्हें कोई नही जनता -Deep secrets of the Taj Mahal, which no public
ताजमहल सिर्फ़ प्यार की निशानी ही नहीं हैं, बल्कि इसका नाम दुनिया के सात अजूबों में भी शुमार किया जाता है. इस खूबसूरत और प्यार की कहानी बयां करने वाली इमारत को किसने किस लिए बनवाया हम सब जानते हैं पर इसके बावजूद बहुत सी ऐसी बातें भी है जिन्हें हम नहीं जानते.
हम आज आपको ताजमहल के उन्हीं रहस्यों के बारे में बता रहे हैं, जो इस खूबसूरत इमारत की चकाचौंध में नहीं दिखाई पड़ते.
ताजमहल के गहरे राज ,जिन्हें कोई नही जनता /Deep secrets of the Taj Mahal, which no public ताजमहल के गहरे राज ,जिन्हें कोई नही जनता /Deep secrets of the Taj Mahal, which no public,ताजमहल के राज ,ताजमहल का रहस्य ,ताजमहल की हकीकत ,मुमताज़ के मकबरे की छत पर एक छेद,ताजमहल के चारों ओर बांस का घेरा,शाहजहां ने जब पहली बार ताजमहल को देखा,ताजमहल जब बेच दिया गया, पिशाचों की कलाकृति,ताजमहल पर खर्च,ताजमहल का गायब होना,काले ताजमहल का सपना,ताजमहल के साथ पहली सेल्फी,ताजमहल का रंग बदलता है taj mahal story  taj mahal information  taj mahal facts  taj mahal india  why was the taj mahal built  taj mahal wikipedia  taj mahal inside 10 points on taj mahal in hindi  history of black taj mahal in hindi  essay on taj mahal in hindi language  taj mahal kab bana  taj mahal history in hindi video  essay on taj mahal in marathi language  taj mahal kisne banaya hai  taj mahal kab banaya gaya taj mahal the true story

1. मुमताज़ के मकबरे की छत पर एक छेद

मकबरे की छत की छेद से टपकते पानी की बूंद के पीछे कई कहानियां प्रचलित है, जिसमें से एक यह है कि जब शाहजहां ने सभी मज़दूरों के हाथ काट दिए जाने की घोषणा की ताकि वे कोई और ऐसी खूबसूरत इमारत न बना सके तो मजदूरों ने ताजमहल को पूरा के बावजूद इसमें एक ऐसी कमी छोड़ दी जिससे शाहजहां का खूबसूरत सपना पूरा न हो सके.
2. ताजमहल के चारों ओर बांस का घेरा
द्वितीय विश्व युद्ध, 1971 भारत-पाक युद्ध और 9/11 के बाद इस भव्य इमारत की सुरक्षा के लिए ASI ने ताजमहल के चारों और बांस का सुरक्षा घेरा बना कर उसे हरे रंग की चादर से ढक दिया था, जिससे ताजमहल दुश्मनों को नज़र न आये और इसे किसी प्रकार की क्षति से बचाया जा सके.
3. शाहजहां ने जब पहली बार ताजमहल को देखा
जब शाहजहां ने पहली बार ताजमहल का दीदार किया तो उसने कहा “ये सिर्फ़ प्यार की कहानी बयां नहीं करेगा बल्कि उन सबको दोष मुक्त भी करेगा जो इस पाक जमीं पर अपने क़दम रखेंगे और चांद-सितारे इसके गवाही देंगे”
4. मजदूरों के हाथ काट दिए गये
ताजमहल बनने के बाद की एक अफ़वाह यह थी कि शाहजहां ने मजदूरों के हाथ कटवा लिए थे, पर अगर इतिहास पर नज़र डाली जाये तो ताजमहल के बाद भी कई इमारतों को बनवाने में उन लोगों का योगदान रहा था. उस्ताद अहमद लाहौरी उस दल का हिस्सा रहे थे जिसने ताजमहल को बनाया था और लाल किले का निर्माण का कार्य भी उन्हीं की देख-रेख में शुरू हुआ था.

5. ताजमहल के मीनार

अगर ताजमहल के मीनारों पर ध्यान दिया जाये तो हम पाएंगे कि चारो मीनार एक दूसरे की ओर झुके हुए नज़र आते है, जिन्हें बिजली और भूकम्प के दौरान मुख्य गुम्बद पर न गिरने के लिए इस एंगल से बनाया गया है.
6. ताजमहल जब बेच दिया गया
बिहार के सुप्रसिद्ध ठग नटवरलाल के बारे में यह कहानी प्रचलित है कि एक बार उसने ताजमहल को मंदिर बताकर लोगों को बेच दिया था. नटवर लाल के पैतृक गांव के लोग उसके इसी कारनामे के लिए गांव में उसका मंदिर बनवाने की मांग उठाने लगे हैं.
7. यमुना न होती तो ताजमहल न होता
ताजमहल का आधार एक ऐसी लकड़ी पर बना हुआ है जिसे मजबूत बनाये रखने के लिए नमीं की जरूरत होती है, जिसे नज़दीक ही बहने वाली यमुना बनाए रखती है.
8. पिशाचों की कलाकृति
ताजमहल की कलाकृति में 28 तरह के कीमती पत्थरों को लगाया गया था जो चीन, तिब्बत से लेकर श्रीलंका से लाये गये थे. ब्रिटिश काल के समय इन बेश-कीमती पत्थरों को अंग्रेजों ने निकाल लिया था. जिसके बारे में यह कहा जाता था कि ये बेश-कीमती पत्थर किसी की भी आंखे चौंधियाने की काबिलियत रखते थे.
9. क़ुतुब मीनार से भी लम्बा
कुतुब मीनार को देश की सबसे ऊंची इमारत के तौर पर जाना जाता है पर इसकी ऊंचाई भी ताजमहल के सामने छोटी पड़ जाती है. सरकारी आंकड़ो के अनुसार ताजमहल, क़ुतुब मीनार से 5 फुट ज़्यादा लम्बा है.
10. ताजमहल पर खर्च
शाहजहां ने जब ताजमहल बनवाया था तब उस पर लगभग 32 मिलियन खर्च हुए थे. जिसकी कीमत आज 1,062,834,098 USD हैं.
11. सारे फव्वारे एक ही समय पर काम करते है
ताजमहल में लगा कोई भी फव्वारा किसी पाइप से नहीं जुड़ा हुआ है. बल्कि हर फव्वारे के नीचे एक तांबे का टैंक बना हुआ है, जो एक ही समय पर भरता है और दबाब बनने पर एक साथ ही काम करता हैं.
12. ताजमहल का गायब होना
8 नवम्बर 2000 का दिन ताजमहल को देखने वालो के लिए बड़ा ही अचंभित करने वाला था PC Sorkar Jr.ने ऑप्टिकल साइंस के जरिये ताजमहल को गायब करने का भ्रम पैदा कर दिया था.
13. 12000 सैलानी
ताजमहल एक दिन में वर्ल्ड में सबसे ज़्यादा देखी जाने वाली भव्य इमारतों में सबसे ऊपर हैं. इसे देखने के लिए पूरी दुनिया से 12000 सैलानी हर रोज आगरा आते हैं.
14. काले ताजमहल का सपना
शाहजहां की एक ख्वाहिश यह भी थी कि जैसे उसने अपनी बीबी के लिए सफ़ेद ताजमहल बनाया था. वैसा ही एक काला ताजमहल खुद के लिए बनवा सके. पर शाहजहां को जब उसके बेटे औरंगजेब ने कैद कर लिया तो उसका ये सपना बस सपना ही रह गया.

15. ताजमहल के साथ पहली सेल्फी

आज हम सब सेल्फी के दीवाने है पर George Harrison नाम के इस व्यक्ति ने Fish Eye Lense की मदद से उस समय ही ले ली थी जब सेल्फी का दौर ही नहीं था. मतलब ताजमहल के साथ पहली सेल्फी George Harrison ने ली थी.
16. ताजमहल का रंग बदलता है
यह बात जरुर हैरान करने वाली है पर ताजमहल का रंग भी बदलता है, दिन के अलग अलग पहर के हिसाब से ताज भी अपना रंग बदलता रहता है. सुबह देखने पर ताज गुलाबी दिखता है, शाम को दुधिया सफ़ेद और चांदनी रात में सुनहरा दिखता है.
17. अमेरिका में ताजमहल
ताजमहल के दीवानों का जब भी जिक्र होगा सबसे पहला नाम ग्रैमी अवार्ड विनर, सिंगर Henry Saint Clair Fredericks का होगा. उन्हें ताज से इतनी मोहब्बत है की उन्होंने अपना स्टेज नेम ही ताजमहल रख लिया है.
18. आपके दिल में ताज
ताजमहल बनाने वालो ने इसके हर पहलू पर बड़ा ध्यान दिया है, यहा के लोग कहते हैं कि जब आप यहां से जाते हैं तो ताजमहल को अपने दिल में लेकर जाते हैं. एक सीमा तक जैसे-जैसे आप ताज से दूर जाते हैं ताजमहल आपको और बड़ा भव्य लगने लगता है और आपकी यादों से कभी जुदा नहीं होता.
ये भी देखे --
loading...
loading...